Jun 18, 2024
HIMACHAL

Independence Day: सीएम जयराम ने दीं सात सौगातें, नए वेतनमान का एरियर मिलेगा, प्री प्राइमरी शिक्षा नीति बनेगी

Independence Day: सीएम जयराम ने दीं सात सौगातें, नए वेतनमान का एरियर मिलेगा, प्री प्राइमरी शिक्षा नीति बनेगी

देश आदेश

 

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने 76वें स्वतंत्रता दिवस के उपलक्ष्य पर हिमाचल प्रदेश के सरकारी कर्मचारियों के लिए बड़ी सौगातें दी हैं। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने जिला सिरमौर जिले के सराहां में राज्य स्तरीय कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए कर्मचारियों के लिए नए वेतनमान के एरियर की पहली किस्त जारी करने की घोषणा की। इस दौरान सीएम ने राष्ट्रीय ध्वज फहराया और राज्य पुलिस, गृह रक्षक, एनसीसी, एनएसएस की टुकड़ियों से सलामी ली। पुलिस उप अधीक्षक प्रणव चौहान ने परेड की अगुवाई की।

अपने संबोधन के दौरान मुख्यमंत्री ने प्रदेश सरकार के कर्मचारियों व पेंशनरों को 1 जनवरी 2016 से संशोधित वेतनमान के एरियर की देय पहली किश्त प्रदान करने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार इसके लिए 1,000 करोड़ रुपये का लाभ प्रदान करेगी। उन्होंने कहा कि इससे प्रदेश के लगभग 2.25 लाख कर्मचारी तथा 1.90 लाख पेंशनर लाभान्वित होंगे, जिनमें सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों के कर्मचारी व पेंशनर भी शामिल हैं। उन्होंने कहा कि संशोधित वेतनमान व पेंशन के फलस्वरूप कर्मचारियों और पेंशनरों को 3,500 करोड़ रुपये का लाभ मिला है

गौरतलब है कि इस साल के अंत में हिमाचल प्रदेश में विधानसभा चुनाव की प्रक्रिया शुरू होने वाली है। ऐसे में चुनाव से ठीक पहले जयराम  सरकार ने राज्यस्तरीय स्वतंत्रता दिवस समारोह में कर्मचारियों के लिए कई सौगातें दी हैं।  हालांकि डीए, स्कूल मैनेजमेंट कमेटी(एसएमसी)के तहत रखे गए  2555 शिक्षकों को स्थायी या नियमित नीति के तहत लाने, एनपीएस और आउटसोर्स कर्मियों को लेकर कोई घोषणा नहीं हुई है।

पंचायतीराज विभाग के कर्मचारियों को तोहफा, खाद्य तेल पर अनुदान बढ़ाया
सीएम ने पंचायतीराज विभाग के अधीन जिला संवर्ग के चार हजार कर्मचारियों को संशोधित वेतनमान जारी करने की भी घोषणा की। साथ ही 12 वर्षों तक नियमित सेवाएं प्रदान करने वाले पंचायत चौकीदारों की सेवाएं दैनिक भोगी आधार पर करने की घोषणा की। सीएम ने प्रदेश सरकार की ओर से राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम (एनएफएसए) के तहत बीपीएल परिवारों को सरसों का तेल 134 रुपये प्रति लीटर तथा राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम के अतिरिक्त (ओटीएनएफएसए) के तहत एपीएल परिवारों को 139 रुपये प्रति लीटर, एनएफएसए के तहत बीपीएल परिवारों को रिफाइंड तेल 122 रुपये प्रति लीटर, ओटीएनएफएसए के तहत एपीएल परिवारों को 127 रुपये प्रति लीटर प्रदान किया जा रहा है। कहा कि प्रदेश सरकार की ओर से ओटीएनएफएसए के तहत एपीएल परिवारों को खाद्य तेल पर पांच रुपये प्रति लीटर तथा एनएफएसए के तहत बीपीएल परिवारों को खाद्य पर तेल 10 रुपये प्रति लीटर का उपदान प्रदान किया जा रहा है। उन्होंने ओटीएनएफएसए के तहत एपीएल परिवारों को खाद्य तेल पर प्रदान किए जाने वाले उपदान को दोगुना करते हुए 5 रुपये प्रति लीटर से बढ़ाकर 10 रुपये प्रति लीटर तथा एनएफएसए के तहत बीपीएल परिवारों को खाद्य तेल पर प्रदान किए जाने वाले उपदान को 10 रुपये प्रति लीटर से बढ़ाकर 20 रुपये प्रति लीटर करने की घोषणा की।

प्री प्राइमरी शिक्षा नीति बनेगी
मुख्यमंत्री ने प्रदेश में प्री प्राइमरी शिक्षा को सुदृढ़ करने के लिए प्री प्राइमरी शिक्षा नीति बनाने तथा आवश्यकतानुसार प्री प्राइमरी शिक्षकों की भर्ती करने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि प्रदेश के निचले एवं मध्य क्षेत्र के किसानों को लाभ प्रदान करने के लिए प्रदेश सरकार 10 वर्षीय पातन (कटान) कार्यक्रम से खैर को बाहर करने के लिए सर्वोच्च न्यायालय में अपील दायर करेगी। जयराम ठाकुर ने प्रदेश के लोगों को स्वतंत्रता दिवस पर शुभकामनाएं देते हुए कहा कि प्रदेशवासियों के लिए यह एक विशेष अवसर है। सीएम ने कहा कि एक ओर हम जहां आजादी का अमृत महोत्सव मना रहे हैं, वहीं हिमाचल प्रदेश के गठन के 75वें वर्ष के अवसर पर प्रदेश में विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं। उन्होंने स्वतंत्रता सेनानियों को भी श्रद्धांजलि अर्पित की, जिनके अथक प्रयासों से भारत को स्वतंत्रता प्राप्त हुई। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कुशल नेतृत्व में पूरे राष्ट्र में लोग हर घर तिरंगा कार्यक्रम में भाग ले रहे हैं।

उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार इस अवसर पर पूरे प्रदेश में योजनाबद्ध तरीके से 75 कार्यक्रम आयोजित कर रही है। इन कार्यक्रमों का मुख्य उद्देश्य 75 वर्षों के दौरान प्रदेश की विकास यात्रा को प्रदर्शित करना है।  उन्होंने कहा कि कठिन भौगोलिक परिस्थितियों के बावजूद प्रदेश ने इन वर्षों के दौरान अभूतपूर्व विकास किया है जिसका श्रेय कुशल नेतृत्व तथा प्रदेश के ईमानदार व कर्मठ लोगों को जाता है। उन्होंने कहा कि प्रदेश ने इन वर्षों में न केवल आकार में बढ़ा है बल्कि प्रदेश में विभिन्न क्षेत्रों में सराहनीय प्रगति की है। उन्होंने कहा कि कठिन भौगोलिक परिस्थितियों के बावजूद प्रदेश ने इन वर्षों के दौरान अभूतपूर्व विकास किया है जिसका श्रेय कुशल नेतृत्व तथा प्रदेश के ईमानदार व कर्मठ लोगों को जाता है। उन्होंने कहा कि प्रदेश ने इन वर्षों में न केवल आकार में बढ़ा है बल्कि प्रदेश में विभिन्न क्षेत्रों में सराहनीय प्रगति की है। सीएम ने कहा कि कि अस्तित्व में आने के समय प्रदेश की साक्षरता दर केवल 4.8 प्रतिशत थी जो आज 83 प्रतिशत से अधिक हो गई है। सड़कों की लंबाई कुल 288 किलोमीटर थी जो आज बढ़कर 39,500 हो गई है।

 

इसी प्रकार प्रदेश में कुल 301 शिक्षण संस्थान थे जिनकी संख्या आज 16,124 हो गई है।  सीएम ने कहा कि प्रदेश सरकार ने अपनी पहली कैबिनेट बैठक में वृद्धावस्था पेंशन की आयु सीमा को 80 वर्ष से घटाकर 70 वर्ष किया ताकि वृद्धजन एक सम्मानजनक जीवन यापन कर सकें। इस आयु सीमा को अब 60 वर्ष किया गया है। मुख्यमंत्री गृहिणी सुविधा योजना के तहत 3.34 लाख परिवारों को निशुल्क रसोई गैस कनेक्शन प्रदान किए जा चुके हैं।

मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर जिला मंडी के करसोग क्षेत्र के प्रेम कुमार, सिरमौर जिले के नौहराधार के वीरेंद्र सिंह, मुख्य चिकित्सा अधिकारी सिरमौर डॉ. अजय पाठक, परेड कमांडर प्रणव चौहान तथा अन्य को उनके उत्कृष्ट कार्यों के लिए सम्मानित किया।  राज्य स्तरीय समारोह के दौरान स्कूली छात्रों और अन्य सांस्कृतिक दलों ने सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए।