Jun 18, 2024
POLITICAL NEWS

सियासत: चुनावी साल में कांग्रेस के लिए गले की फांस बनी गुटबाजी

सियासत: चुनावी साल में कांग्रेस के लिए गले की फांस बनी गुटबाजी

लंबे समय से जिकांक के पूर्व अध्यक्ष के खिलाफ रुष्ट चल रहा था एक धड़ा को काँग्रेस नहीं भांप पाई

देशआदेश सिरमौर

वर्चस्व और अपना दबदबा कायम करने के लिए दो धड़ों की लड़ाई चुनावी साल में कांग्रेस के लिए गले की फांस बन गई है। सिरमौर जिला कांग्रेस में चल रही अंदरूनी कलह बंद कमरे से सार्वजनिक मंच से होते हुए पुलिस थाने तक पहुंच गई है। बीते दिनों पार्टी के एक कार्यक्रम में उपजा विवाद इतनी दूर पहुंचेगा, इसको लेकर किसी ने नहीं सोचा होगा। लंबे समय से जिला कांग्रेस कमेटी के पूर्व अध्यक्ष अजय बहादुर के खिलाफ कांग्रेस का एक धड़ा रुष्ट चल रहा था।
बीते सोमवार को ही दोनों धड़ों के नेताओं को शिमला भी तलब किया गया था। बताया जा रहा है कि बंद कमरे में दोनों धड़ों के नेताओं को कड़े शब्दों में अनुशासन का पाठ पढ़ाया गया था। साथ ही यह भी स्पष्ट किया गया कि अनुशासनहीनता बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

इसी बैठक के बाद सिरमौर कांग्रेस के नेता देर रात लौट रहे थे कि दोनों धड़ों के बीच मारपीट का मामला सामने आ गया। इन सभी बातों को ध्यान में रखते हुए मामला आलाकमान तक पहुंचा। इसके बाद प्रदेश प्रभारी राजीव शुक्ला की अनुशंसा के बाद जिला कांग्रेस कमेटी को तुरंत प्रभाव से भंग कर दिया गया।

विधानसभा चुनाव सिर पर हैं। कांग्रेस के बीच लड़ाई चाहे टिकट को लेकर हो या फिर वर्चस्व को लेकर। दोनों ही सूरतों में पार्टी को इसका नुकसान उठाना पड़ेगा।

दरअसल, यह लड़ाई जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष पद को लेकर भी है। सिरमौर कांग्रेस का एक गुट नहीं चाहता था कि अध्यक्ष पद पर दूसरा गुट हावी हो।