Jun 18, 2024
HIMACHAL

Atal Shresth Shahar Yojna: कुल्लू और नाहन नगर परिषद को एक-एक करोड़ पुरस्कार

Atal Shresth Shahar Yojna: कुल्लू और नाहन नगर परिषद को एक-एक करोड़ पुरस्कार

देश आदेश

वर्ष 2020 में बेहतरीन कार्य के लिए नगर पंचायतों में चौपाल, गगरेट और कोटखाई को क्रमश: पहला, दूसरा और तीसरा पुरस्कार मिला। तीनों नगर पंचायतों को 75, 50 और 25 लाख रुपये मिले।

प्रदेश सरकार की महत्वाकांक्षी अटल श्रेष्ठ शहर योजना में नगर परिषद कुल्लू और नगर परिषद नाहन मालामाल हो गई हैं। विभिन्न क्षेत्र में बेहतरीन कार्य के लिए दोनों नगर परिषदों को एक-एक करोड़ रुपये का पुरस्कार मिला। अटल बिहारी वाजपेयी पर्वतारोहण एवं खेल संस्थान मनाली के सभागार में पारितोषिक वितरण समारोह हुआ। मुख्य अतिथि शहरी विकास मंत्री सुरेश भारद्वाज ने वर्ष 2020 और 2021 में विजेता रहने वाली नगर परिषदों और नगर पंचायतों को सम्मानित किया। शिक्षामंत्री गोविंद ठाकुर भी मौजूद रहे। नगर परिषद नाहन को वर्ष 2020 और कुल्लू को 2021 में बेहतरीन कार्य के लिए पुरस्कृत किया गया।

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने अपने बजट भाषण में शहरी क्षेत्रों के विकास के लिए नगर परिषदों और नगर पंचायतों में प्रतिस्पर्धा बढ़ाने के लिए अटल श्रेष्ठ शहर योजना शुरू की है। वर्ष 2020 में कोरोना के चलते समारोह नहीं हो पाया था। इस बार एकसाथ दो वर्षों का सम्मान समारोह हुआ। शहरी विकास विभाग के अधिकारियों की टीम की ओर से तय मापदंडों के अनुसार सफाई व्यवस्था, आय के साधन बढ़ाने, पार्क, पार्किंगों के निर्माण, शहरी क्षेत्र में मूलभूत सुविधाएं जुटाने में बेहतरीन कार्य करने वाली नगर परिषदों को चुना गया था।

 

वर्ष 2020 में बेहतरीन कार्य के लिए नगर पंचायतों में चौपाल, गगरेट और कोटखाई को क्रमश: पहला, दूसरा और तीसरा पुरस्कार मिला। तीनों नगर पंचायतों को 75, 50 और 25 लाख रुपये मिले। 2021 के लिए पहले स्थान पर रही जिला सोलन की अर्की नगर पंचायत को 75 लाख रुपये का पुरस्कार दिया गया। दूसरे स्थान पर सुन्नी को 50 लाख और तीसरे स्थान पर रहे नारकंडा को 25 लाख का पुरस्कार दिया गया।

नाहन नगर परिषद को प्रथम, मनाली को द्वितीय और कुल्लू को तीसरा पुरस्कार मिला। तीनों नगर परिषदों को एक  करोड़, 75 लाख और 50 लाख का पुरस्कार मिला। वर्ष 2021 में नगर परिषद कुल्लू को उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए एक करोड़ रुपये का ईनाम मिला। नगर परिषद ऊना द्वितीय रही। ऊना को 75 लाख और तीसरे स्थान पर रही बद्दी नगर परिषद को 50 लाख का पुरस्कार मिला। इस अवसर पर पूर्व सांसद महेश्वर सिंह, भाजपा उपाध्यक्ष धनेश्वरी ठाकुर, शहरी विकास विभाग के प्रधान सचिव देवेश कुमार, विभाग के निदेशक मनमोहन शर्मा, संयुक्त निदेशक राखी सिंह भी मौजूद रहे।

नगर निगम भी होंगे योजना में शामिल : सुरेश
सुरेश भारद्वाज ने कहा कि पहले हिमाचल में सिर्फ शिमला एक ही नगर निगम था। भाजपा सरकार ने इनकी संख्या बढ़ाकर पांच कर दी है। लिहाजा, अटल श्रेष्ठ शहर योजना में अब नगर निगमों को भी शामिल किया गया है। अगले वर्ष से नगर पंचायतों और नगर परिषदों के साथ नगर निगमों को भी पुरस्कार मिलेगा।