Jun 18, 2024
Popular News

हाटी को जनजातीय दर्जा देने का उचित समय, केंद्र सरकार जल्द निर्णय ले

हाटी को जनजातीय दर्जा देने का उचित समय, केंद्र सरकार जल्द निर्णय ले

ज़ोर पकड़ रही एसटी दर्जा की मांग, राजनीतिक दलों पर भी पड़ने लगा है आंदोलन का दबाव, राजनाथ सिंह के वायदे को भी दिलाया याद

न्यूज़ देशआदेश

शिलाई:अपनी प्राचीन संस्कृति को संजोये हाटी समुदाय की महाखुमली में लोग पारंपरिक वेशभूषा में नजर आए। शिलाई में आयोजित महाखुमली के दौरान लोग थिरकते हुए आयोजन स्थल तक पहुंचे। हाथों में डांगरे उठाकर लोगों ने अपनी प्राचीन संस्कृति का परिचय दिया।

भारी बारिश के दौरान भी दूर-दूर से महिलाएं और पुरुष अपनी वेशभूषा में महाखुमली में शामिल हुए। हाथों में हुड़क, ढोल व दमानू आदि वाद्ययंत्रों के साथ रासे लगाते हुए लोगों ने महाखुमली में शिरकत की। इस दौरान तीन हजार के करीब लोग उमड़े।

हाटी महासम्मेलन में भाजपा प्रदेशाध्यक्ष एवं सांसद सुरेश कश्यप, शिलाई के विधायक हर्षवर्धन चौहान, रेणुका के विधायक विनय कुमार और पूर्व विधायक बलदेव तोमर भी मौजूद रहे। दरअसल, जनजातीय दर्जा देने की मांग जोर पकड़ रही है। इस आंदोलन का दबाव अब राजनीतिक दलों पर भी पड़ने लगा है। यही कारण है कि शिलाई में शनिवार को हाटी की महाखुमली में निमंत्रण पर सांसद सहित गिरिपार क्षेत्र के विधायक और पूर्व विधायक भी पहुंचे और हाटी की मांग को समर्थन दिया। इस दौरान नेताओं ने अपनी बात भी रखी।
सांसद सुरेश कश्यप ने कहा कि हिमाचल के सभी दलों के चुने हुए प्रतिनिधियों ने इस मुद्दे पर प्रयास किए हैं। उन्होंने कहा कि जो कमियां रहीं, उसे पूरा करने की कोशिश की जा रही है। उन्होंने गत माह ही संसद में गिरिपार क्षेत्र की हाटी जनजातीय दर्जा देने की मांग को उठाया। उसके बाद जनजातीय मंत्री अर्जुन मुंडा से मुलाकात की और हाटी मुद्दे की प्रगति रिपोर्ट की कॉपी उन्हें सौंपी।

शिलाई कांग्रेस विधायक हर्षवर्धन चौहान ने कहा कि जरूरत पड़ी तो हाटी के लिए कुर्सी भी छोड़ देंगे। उन्होंने कहा कि महाखुमली में सभी नेताओं ने हाटी मुद्दे पर एकता का संदेश दिया है। हर राजनीतिक दल की यह मंशा है कि हाटी को जनजातीय दर्जा मिलना चाहिए। उन्होंने सांसद सुरेश कश्यप से भी आग्रह किया कि वह केंद्र में यह मांग जोरदार तरीके से उठाएं। उन्होंने राजनाथ सिंह के वायदे को भी याद दिलाया। उन्होंने कहा कि आज केंद्र में स्पष्ट बहुमत की सरकार है तो वह यह काम कर सकती है।

रेणुकाजी के विधायक विनय कुमार ने कहा कि हाटी का मुद्दा जातिवाद, क्षेत्रवाद और राजनीति से ऊपर है। सभी राजनीतिक दलों ने प्रयास किए हैं। हमें मिल-जुलकर यह काम करना है और नौजवानों को न्याय दिलाना है।

शिलाई क्षेत्र के पूर्व विधायक एवं वर्तमान में खाद्य एवं आपूर्ति निगम के उपाध्यक्ष बलदेव तोमर ने कहा कि भाजपा सरकार और सांसदों ने गिरिपार क्षेत्र की हाटी जनजातीय दर्जा देने की मांग को हर स्तर पर रखा। अब मामला आरजीआई के पास है। राजनीति छोड़नी होगी तो वो भी छोड़ देंगे। वह जनता के साथ है। हर स्तर तक साथ रहेंगे। हाटी को जनजातीय दर्जा देने का समय आ गया है। केंद्र सरकार इस पर जल्द निर्णय ले। बिना राजनीति के यह लड़ाई लड़ना संभव नहीं। इसलिए हमें नेताओं को भी साथ लेकर चलना है। इस मौके पर हजारों लोग मौजूद रहे।